८ असार २०८१, शुक्रबार | Fri Jun 21 2024

जात्रा पावनि (दसै) आर टिका लादाले ना ग्रहण कर्न?


१२ कार्तिक २०७७, बुधबार  

0
Shares

जात्रा पावनि (दसै) आर टिका लादाले ना ग्रहण कर्न ?

भरत राजवंशी / 
हिन्दु धर्म अनुसार बच्छरेर पर आसुआर जात्रा-पावनि दुर्गा पुजा आर हालजात्रा पावनि आसेचे। जब कोच महाराजा (बिशु) बिश्वसिङ हिन्दु धर्म ग्रहण करिल सेइ समयसे कोच संस्कृति आर सभ्यता हिन्दु धर्मरक परम्परागत रुप दिए पोल-पावनि मानुआर चलन आसिल।

लेकिन कोच संस्कृति आर रितिरिवाज अनुसार हामा माटिखानक स्वरुप बेनाये मुर्ति पुजन आर भूई पुजन कर्ते प्रकृति पुजक कहे भि आपनाक कहचि। इयार बाबजुद आल्हाकार किछु पढालाखा बुज्रुक व्यक्ति आर धनाढ्य घरानेर लोकला आपनार संस्कृति आर संस्कारटक भूलिये माथार कापालत रंगिन चाउलेर टिका आर कानलात जमरा गुथिये “टिका लाग्बार” पर्वतिया संस्कारत ढुक्ते जाछे।

पर्वतिया संस्कारत टिका लागाये आपनार संस्कार बाच्बार आर संरक्षणेर बादे कटिबद्ध छे दसै आर तिहारत। परन्तु हामार कोच समुदायेर किछु ब्यक्तिला पर्वतिया संस्कारेर पाछु पाछु भागिये आपनार अस्तित्वरक संकटत पारुआर काम हचे। पर्वतिया संस्कार अम्हालारले ठिक छे हामाक अम्हार संस्कृति आर संस्कारेर पर कुनह दु:खमन गुनासो निछे परन्तु आपनार कोचला आपनार रितिथिति छरिये दसरा झनार संस्कारला मानिये महानतार परिभाषा दिबार कोचेर अस्तित्वरर संगे खेलबाड करुआर लाखा हये।

कियाएकि जेइड जाति समुदायेर आपनार भाषा, लिपि, संस्कृति, पहिचान आर संस्कार निरहचे उड जातिर अस्तित्व भि निरहचे। इसिलिये दसरा झनार संस्कारलाक भि सम्मान करिते आपनार संस्कार आपनारे किसिमसे मानाई। बिशेश करे दसै (जात्रा-पावनि) हामालार भिन किसिमसे मानुआर चलन छे। जात्रार समय हामा नयाँ जामा-पेन्ट, लात्ताकापरा किनेचि। बस्ति-घरत छागल काटिये मासु आर माच खाचि।

घरत हालजात्रा करिये दुर्गा मन्दिरत डालि चढुआ जाछि। बाजारसे जुल्पि, खास्ता आर मन पसन्द खाबार जिनिस किनिये घर आनेचि। छुआछटलाक खेलौना किनिदेछि। मितुआ (सन्थाल) नाच देखुआ जाछि। बाजार बेसाये बेटिजुआला छुवाछट लिये सोदोर खावा ससुराल जाबार चलन छे। लेकिन टिका लागाये दिबार आर टिका लाग्बार चलन निछे। इसिलिये आपनार संस्कृति आर संस्कारेर ख्याल समयते करि ताकि कालि भावि दिनत आपनारे परम्पार किताब इतिहासत अन्छिबा नापरोक। जदि इखान पोष्टसे कारह मनत चोट लागे लागोक हामा त अभियन्ता हयि इला काथा कहम, आर कहबाय हबे ।

प्रकाशित मिति : १२ कार्तिक २०७७, बुधबार  ६ : ४५ बजे